Skip to content

थोड़ी सी चटनी!

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

कविता

July 15, 2017

थोड़ी सी चटनी !
थोड़ा सा पापड़
जरा सी सलाद
जिंदगी भी कुछ यूँ ही है—
सतरंगी ,कई अंदाज और कई स्वाद!
कभी जोर-शोर का तड़का—
कभी गरीब की सन्नाटे की सब्जी!
कभी गुड़ और घी
जिंदगी भी कुछ यूँ ही है- – –
कभी मीठी, खट्टी और रसीली- —
कौन जाने ?
कब बदल जायें इसके ढेर मिजाज –कहीं हैं छप्पन भोग
तो कहीं हैं थाली खाली – —
जिंदगी कुछ यूँ ही तो है!
कभी मुस्कराये ,कमी उदास
किसी की जेब खाली -खाली
कल्पतरु की बगिया किसी के पास!
जिंदगी भी कुछ यूँ ही- – –

Author
मुकेश कुमार बड़गैयाँ
I am mukesh kumarBadgaiyan ;a teacher of language . I consider myself a student & would remain a student throughout my life.
Recommended Posts
यूँ ही कभी विगत स्मृतियों के संग, बैठी चाय की चुस्की लेती, विहगों को विराट अनन्त की ओर, निरुद्देश्य बढ़ते देखती। यूँ ही कभी विगत... Read more
सुहानी सी एक शाम
वो छुप छुप कर यूँ हमारा मिलना। और वो हमारा संग संग चलना।। कभी हँसना तो कभी मुस्कुराना। यूँ हाथों में एक दुजे हाथ लिए।।... Read more
ज़िन्दगी कभी-कभी अजनबी सी लगती है...
अपनी होकर भी, ना जाने क्यूँ.... किसी और की लगती है.... ये ज़िन्दगी कभी कभी…. हाँ.....कभी-कभी अजनबी सी लगती है..... धड़कता तो है दिल अपने... Read more
मैं और मेरी जिंदगी
,हंसती खिलखिलाती सी जिंदगी अक्सर यूं ही रूठ जाया करती है दिखाकर सप्तरंग सपने श्वेत श्याम हो जाती जिंदगी भाग जाती छूट जातीमेरे हाथों से... Read more