.
Skip to content

त्रिभंगीलाल

निहारिका सिंह

निहारिका सिंह

अन्य

November 10, 2017

मैं रवि तुम चाँद से
मैं काया तुम प्राण से ..
मैं बसुरी तुम बसुरी की धुन !
मेरा प्रेम त्रिभंगीलाल से ..
निहारिका सिंह

Author
निहारिका सिंह
स्नातक -लखनऊ विश्वविद्यालय(हिन्दी,समाजशास्त्र,अंग्रेजी )बी.के.टी., लखनऊ ,226202।
Recommended Posts
मैं और तुम
मैं और तुम मैं प्यासा सागर तट का मैं दर्पण हूँ तेरी छाया का मैं ज्वाला हूँ तड़पन का मैं राही हूँ प्यार मे भटका... Read more
हम के लिये
'मैं' 'मैं' है और 'तुम' 'तुम' अतः क्योंकर भिड़ना किसी के 'मैं' से? यह जानते हुये भी कि न तो 'मैं' 'तुम' हो सकता है... Read more
मेरी सुबह हो तुम, मेरी शाम हो तुम! हर ग़ज़ल की मेरे, नई राग़ हो तुम! मेरी आँखों मे तुम, मेरी बातों मे तुम! बसी... Read more
नवगीत
नवगीत हूँ मैं यदि नई कविता हो तुम संचेतना ! नवगीत हूँ मैं यदि हो तुम मधुरिम गजल परिकल्पना ! जनगीत हूँ मैं यदि विनय... Read more