Skip to content

तो वो कविता है

शक्ति राव मणि

शक्ति राव मणि

कविता

February 9, 2017

शब्द कम हो और सिख बडी दे जाये,तो वो कविता है

मोहब्बत के मारे शायर बना फिरता है
वो शायरी प्रकृति से मिल जाए,तो वो कविता है

मेरे दिल से निकली बात तेरे दिल को छू जाए
मेरे लिखे शब्द तेरे अल्फाज बन जाए,तो वो कविता है

मेरी ज़ुबां से नही स्याही से निकलकर
कागज पर उतर जाए,तो वो कविता है

मेरे अरमाँ तेरे अरमाँ से मिल जाए
मेरी रुह तेरी रुह हो जाए,ये कही बात भी एक कविता है

टूटा हुआ पर् भी जमीन पे आराम से गिरता है
पेड फिर उगने की चाह मे बीज बनता है

साथ है,और जो साथ निभा जाए
दोनो मे जो अंतर बता जाए,तो वो कविता है

जिसकी उड़ान अनन्तता मे हो तो वो कविता है

टूटकर भी जो मंजिल तक पहुँच जाता है
अपनी दास्ताँ कुछ यूँ सुनाता है

के अब तक लिखी बात जो समझ जाए तो वो कवि है
और वो कवि मेरी समझ को तेरी समझ से मिला दे , तो वो कविता है………

श.र.मणि

Author
शक्ति राव मणि
नाम:- शक्ति राव
Recommended Posts
ग़ज़ल
तुम जो सीने लगो यार मज़ा आ जाये। आओ कुछ ऐसे करें प्यार मज़ा आ जाये। मैं ने मुद्दत से नहीं देखा सुहाना मंज़र। तेरा... Read more
**कविता**
---------क्या आप मेरी बात से सहमत हैं ? **कविता** ** * * एक अनपढ़ भी कविता रच सकता है क्योंकि कविता आत्मा की आवाज है... Read more
कविता क्या होती है...?
कविता क्या होती है.....? इसे नहीँ पता,उसे नहीँ पता मुझे नहीँ पता...........! कहते हैँ कवि गण- कविता होती है मर्मशील विचारोँ का शब्द पुँज, कविता... Read more
बेटी का हक़
 बेटी का हक़     कवियों ने बेटी पर कईं कविताएं लिखी    किसी ने बेटी की महिमा किसी ने व्यथा लिखी   मैंने सोचा क्या... Read more