.
Skip to content

तो तुम चले जाना…

विनोद सिन्हा

विनोद सिन्हा "सुदामा"

गज़ल/गीतिका

December 22, 2016

एक फरियाद ऐसी भी…!

***।..तुम चले जाना..।***

दिल की बात करने बाले तुमने तो अपनी बात कर ली.।
हम भी जरा इक बात बता लें तो तुम चले जाना.!!

लगा के आग इस दिल में जो तुम चले जाते हो..।
इस आग को जरा बुझा लें तो तुम चले जाना.।

मुद्दत से इस दिल ने चाहा है तुझको अपना बनाना.।
तुझको हम जरा अपना बना लें तो तुम चले जाना.।

बहुत तड़पे, बहुत तरसें है तुझको पाने के लिये,
तुझको अपने साँसो मे जरा समा लें तो तुम चले जाना.।

इक अरसे तलक तरसी हैं ये निगाहें तेरे दीदार को.।
तुझको जरा निगाहों मे बसा लें तो तुम चले जाना.।

बड़ा रोया है दिल मेरा अपनी तन्हाईयों के मंजर पे.।
ये दिल जरा मुस्कुरा ले तो तुम चले जाना.।

सँभाला तो ख़ुद को तुझ बिन हमने बहुत है मगर.।
इस दिल को जरा समझा लें तो तुम चले जाना.।।

देख न ले छुपकर जाते कहीं तुझको ये जमाना.।
शाम जरा और ढल जाये तो तुम चले जाना.।

*** विनोद सिन्हा-“सुदामा” ***

Author
विनोद सिन्हा
मैं गया (बिहार) का निवासी हूँ । रसायन शास्त्र से मैने स्नातक किया है.। बहुरंगी जिन्दगी के कुछ रंगों को समेटकर टूटे-फूटे शब्दों में सहेजता हूँ वही लिखता हूँ। मै कविता/ग़ज़ल/शेर/आदि विधाओं में लिखता हूँ ।
Recommended Posts
बात कहा पहुची, बताओ तो जरा.....
बात कहा पहुची, बताओ तो ज़रा। कुछ अपनी सखी से कही, पुछो तो जरा। हम इशारा भी किये , तो सक होगा। मेरे दोस्त, तुम... Read more
हम = तुम
हम अल्लाह तुम राम हम गीता तुम क़ुरान हम मस्ज़िद तुम मंदिर हम काशी तुम मदीना हम जले तुम बुझे तुम जले हम बुझे हम... Read more
चले आओ
फिर फहफिल सजाए चले आओ, किसी से दिल लगाये चले आओ, नफरतो में डूबा है जमाना, हम मोहब्बत फैलाये चले आओ, तुम अदा से नज़रें... Read more
खिड़की खुली है दिल की
खिड़की खुली है दिल की, झाको ज़रा तुम दिल में, अरमान मेरे तूफान पर , निकल अब महफ़िल में , ना कोई तेरा ना कोई... Read more