" तो क्या जिया ! "

🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗

एक ही तो जिंदगी है इस हिसाब से कर्म ना किया ,
तो क्या किया !
इस जिंदगी को दुसरो के हिसाब से बदल बदल कर जिया ,
तो क्या जिया ।।

किसी की दी खुशी – प्यार को भूला कर कई अलमारी किताब याद किया तो ,
तो क्या किया !
खुद दर्द की गहराई को जान कर भी किसी को दर्द में तड़पते छोड़ दिया ,
तो क्या जिया ।।

जो जिसका है उसे देकर अपने बारी का इंतजार नहीं किया ,
तो क्या किया !
इस एकलौती जिंदगी को अपने उसूलों पर ना जिया ,
तो क्या जिया ।।

🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗

🙏 धन्यवाद 🙏

✍️ ज्योति ✍️
नई दिल्ली

1 Like · 2 Comments · 7 Views
पिता - श्री शिव शंकर साह माता - श्रीमती अनिता देवी जन्मदिन - 09-10-1998 गृहनगर...
You may also like: