.
Skip to content

तो किस्मत हार जाती है

बसंत कुमार शर्मा

बसंत कुमार शर्मा

गज़ल/गीतिका

March 20, 2017

लगन से की गई मेहनत, नहीं बेकार जाती है
अगर दम कोशिशों में हो, तो किस्मत हार जाती है

बड़ी बेचैन रहती है, किनारे पर भी’ ये कश्ती
कभी इस पार आती है, कभी उस पार जाती है

किया वादा अगर उसने मुझे मंदिर में मिलने का
बुलाती है मुझे शनिवार खुद इतवार जाती है

ख़ुशी है आजकल रूठी मेरे आँगन मेरे घर से
गली में हर मोहल्ले में, सभी के द्वार जाती है

वफ़ा की सब किताबों को, पढ़ा मैंने भी’ उसने भी
न जाने कौन से रस्ते, मेरी सरकार जाती है

समा जाती है धड़कन में, निकलती ही नहीं दिल से
ये मेरे प्यार की खुशबू, जहाँ इक बार जाती है

Author
बसंत कुमार शर्मा
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन
Recommended Posts
मेरे प्यार की खुशबू
हमारी कोशिशें कम हों तो’ किस्मत हार जाती है कहीं चप्पू बिना कश्ती, नदी के पार जाती है किया वादा तो है उसने, मुझे मंदिर... Read more
Thinking
********* कलम को कौम की मेरे कभी जो याद आती है मैं उर्दू में ग़ज़ल--- कहता हूँ हिन्दी मुस्कुराती है *******---------------********** अगर गुल से मुहब्बत... Read more
बस क़लम वही रच जाती है...
रस-छंद-अलंकारों की भाषा मुझको समझ नही आती है... जो होता है घटित सामने बस क़लम वही रच जाती है... माँ की ममता को देख क़लम... Read more
नज़रों ही नज़रों  में  मुहब्बत सी  हुई जाती है
नज़रों ही नज़रों में मुहब्बत सी हुई जाती है ख़ामोश हैं लब यारब क़यामत सी हुई जाती है भटकते हुये भी देख तेरे शहर में... Read more