Jun 11, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

” तोड़ दो हाथ उनके , जो खतरा बनें “

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नव सृजन कुछ करो अब चमन के लिये ।

नवजवानों उठो ~~ अरि दमन के लिये ।

तोड़ दो हाथ उनके ~~ जो’ खतरा बने ।

आज अपने वतन के ~~ अमन के लिये ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
वीर पटेल

23 Views
Kavi DrPatel
Kavi DrPatel
25 Posts · 1.6k Views
Follow 1 Follower
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता... View full profile
You may also like: