.
Skip to content

*** तोड़ दिया घरोंदा तूने ,तुझे क्या मिला ***

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

कविता

February 6, 2017

*******

तोड़ के घरोंदा उस जीव का
बेघर कर दिया ओ तूने
इक पथर जरा उछाल दे अपने
घर के शीशे पर ओ घरोंदा तोड़ने वाले !!

तू तो बनवा लेगा किसी और के हाथो से
धन को कमा लेगा फिर अपनी चालों से
उस का तो नहीं कोई भी बना के देने वाला
क्यूं उस को उजाड़ दिया पथर मारने वाले !!

वो कह नहीं सकता कि क्यूं उजड़ा दिया मुझको
मेरे परिवार ने क्या बिगाड़ा जो भगा दिया मुझको
मैंने तिनका तिनका इकठा कर के बनाया था
जरा एक बार तो सोचता मुझे बेघर करने वाले !!

रात का समां आ गया है, किस का ढूँढू में आसरा
मेरे मासूम से इन जीवों को शायद ही मिलेगा आसरा
बरसात का मौसम है, आंधी भी परेशां करेगी सबको
क्या कभी आंधी तूफ़ान में तूने घर बनाया है ओ मारने वाले ??

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
*** रंग डारो मोरे मन को ***
तन रंगे अब का होवे है रंग डारो मोरे मन को ।। ओ पिया ओ पिया ओ पिया मैं तो हो ली अब साजन की... Read more
** ग़मेंदिल कैसे छुपाऊं **
26.3.17 * गीत * प्रातः 10.14 गीत कोई गुनगुनाऊँ क्या मैं अब तुमको सुनाऊं प्रीत की है रीत ये तो ग़मेंदिल कैसे छुपाऊं मैं अरे... Read more
निवेदन
जरा ठहरो आहिस्ता चलो, पायल न बजाओ, कोई सुन लेगा, तुम्हरी महकी हुई सांसो से कोई खुशबू चुन लेगा, अरे हर किसी के सामने बेपर्दा... Read more
****रेत पर कभी महल नहीं बनते****
रेत पर कभी महल नहीं बनते क्या फायदा बे वजह जताने का अरमानो को रोंद के जो चले जाते हैं क्या फायदा किसी और का... Read more