.
Skip to content

तोहसे करीं प्रीत ऐतना…

पं.संजीव शुक्ल सचिन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

गीत

July 14, 2017

तोहसे करीं प्रीत केतना, कईसे बताई जान हो 3
तोहके न पाईब त पागल हो जाईब 2
अधरे में छुटी प्रान हो।

हमहू करीं प्रीत ऐतना, तुही मोर जीऊवा जहान हो। 2
बारीक ई नेहिया के डोर सजनवाँ, टूटे ना प्रीत के सपनवाँ
सपना सजाद बनाल दुल्हिनीया,
पुराद तु मोर अरमनवाँ,
प्रीत रंग गोरी तोहरे अंग – अंग में घुलल
रोम – रोम करे इजहार हो
हमहुँ करीं प्रीत ऐतना, तुहीं मोर जीऊवा जहान हो।
रहिया में तोहरे बीछाईब सनेहिया,
प्रीतवा के घेरी बदरीया,
मंगीया सजाईब पुराईब सपनवाँ
तोहपे निछावर जिनीगीया।.
अंगवा लगाल सजाद सनेहिया, बरसाद प्रीत के बदरवा,
बिन तोहरे लागे कतहु नाहीं मनवा
तुही मोर जिनगी सजनवाँ
का हम बताई तोहे जीयरा के हालत
तोहसे सजल संसार हो
हमहुँ करीं प्रीत एतना , तुहीं मोर जीऊवा जहान हो।
©® पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Author
पं.संजीव शुक्ल सचिन
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
प्रियतम
??????????????. प्रियतम अपनी प्रेम कहानी. लगती है कोई प्रीत पुरानी. जनम जनम की चाहत अपनी मैं हूँ तेरी प्रेम दिवानी. तू मेरे मैं तेरे दिल... Read more
??प्रीत मन से मन की??
अनुराग झरे नयन से,पुष्प हँसें तेरे लब पर। चन्द्रमुख से है उजाला, मेरे जीवन-शब पर।। हम मिले,मिलकर चले, प्रेम पथ पर प्रिया! नाम चमका इश्क़... Read more
प्रीत पर दोहे
दोहे 1 हमने अपनी प्रीत पर ,लिखे यहाँ जो गीत सात सुरों में बाँध खुद , झूम गया संगीत 2 बादल पर लिख दे घटा... Read more
*** मन-मोर ***
मन-मोर ललचाए किस ओर यह मोर मन जान ना पाए है आतप नहीं ग्रीष्म को ऐसो जैसो तोर समायो हिया में अग्नि अगन लगाए जिया... Read more