तोहरी नगरिया

भोजपरी ————–
बड़ी नीक लागे बालम तोहरी नगरिया /
सुबह-शाम कोयल भी कूके , बोले सोन चिरैया /
मधुरिम चँवर पवन की बगिया साजन मन हरसाती/
माई बहिनी तोहरी सुंदर , भूलि गये हम पाती/
बड़ी नीक लागे बालम तोहरी नगरिया/
रामू श्यामू की तोतल बोली , पियवा मनवा मोहे बा/
चाची – चाची धूम मचावे , सुंदर बड़ी जेठानी बा /
साथ- साथ में लगि के हमरे , सुंदर ज्ञान सिखाती हैं/
बड़ी निक जेठानी जी दिलवा बहलाती है /
बड़े नीक लागे साजन तोहरी बखरिया /
================================
सर्वाधिकार सुरक्षित
राजकिशोर मिश्र ‘राज’ प्रतापगढ़ी

20 Views
Copy link to share
लेखन शौक शब्द की मणिका पिरो छंद, यति गति अलंकारित भावों से उदभित रसना का... View full profile
You may also like: