.
Skip to content

तेवरी :– बेटी ससुराल में !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

तेवरी

June 23, 2016

तेवरी :–बेटी ससुराल मे !!

लालच लत हैवान है !
मोलभाव अपमान है , मत पड़ मायाजाल में !!

बाबुल ने घर सान से !
विदा किए अरमान से , रख उसको खुशहाल में !!

ममता भरे पहाड़ से !
पाला-पोसा लाड़ से , क्यों तडफे ससुराल में !!

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
** बेटी का दर्द **
Neelam Ji कविता Jun 24, 2017
नई उम्मीदें नए सपने संजोती बेटी । शादी होकर जब ससुराल जाती बेटी ।। जन्मजात रिश्तों से दूर हो जाती बेटी । बहू बनते ही... Read more
बेटी
♡♤ बेटी ♤♡ माँ के हाथों का साथ है बेटी, नई मुस्कान की सौगात है बेटी, बेटी का प्रेम आँखों में बसता, परिवार के आँखों... Read more
बेटियाँ
माँ का साया है तो बेटी बाप का गुरूर है ! शान है ससुराल की तो मायके का नूर है !! आज के इस दौर... Read more
*बेटी होती नहीं पराई ...*
बेटी होती नहीं पराई । पराई कर दी जाती है ।। पाल पोसकर जब की बड़ी । कहकर पराई क्यूँ विदा कर दी जाती है... Read more