.
Skip to content

तेवरी :– जीना सीखो रौब से !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

तेवरी

June 25, 2016

तेवरी :– जीना सीखो रौब से !!
— अनुज तिवारी “इन्दवार”

जीना सीखो रौब से ,
जाग उठो तुम ख्वाब से , सोना तो समसान है !

कुछ सर्तों की होड़ मे ,
गदहों की घुड़दौड़ मे , क्यों भटके इनसान है !

घाट छोड़ा सन्देह मे ,
इस माटी की देह मे , क्या तेरी पहचान है !

भाँप क्रूर स्वभाव को ,
गूढ तरुण सदभाव को , क्यों फिरता अंजान है !

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
जीना सीखो
अमन -चैनमय वीणा सीखो| नेह- शांतिरस पीना सीखो| ज्ञान-भाव का अनुपम संगम, पाकर,जीवन-जीना सीखो| उज्जवलता जीवन-प्रकाश है| फिर क्यों मनुआ अति उदास है| कर्म करो,... Read more
पढ़ना तो सीखो, लिखना खुद-ब-खुद सीख जाओगे
पढ़ना तो सीखो, लिखना खुद-ब-खुद सीख जाओगे। गिरना तो सीखो, उठाना खुद-ब-खुद सीख जाओगे। बोलना भी आजकल बच्चे सीखने जाने लगे हैं। सुनना तो सीखो,... Read more
तेवरी :-- बेटी ससुराल में !!
तेवरी :--बेटी ससुराल मे !! लालच लत हैवान है ! मोलभाव अपमान है , मत पड़ मायाजाल में !! बाबुल ने घर सान से !... Read more
?? सीखो प्रकृति से कुछ??
फूलों से तुम हँसना सीखो रे भाई। कलियों से सीखो मुस्क़राना भाई।। पेड़ों से सीखो सर्वस्व लुटाना रे तुम। नदियों से सीखो रफ़्तार लगाना भाई।।... Read more