.
Skip to content

तेवरी :– क्या रख्खा शृंगार में !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

तेवरी

July 6, 2016

तेवरी :– क्या रख्खा श्रृंगार मे !!
अनुज तिवारी “इन्दवार”

जलन भरे जी से जला ,
तन-मन मे कचरा भरा , क्या रख्खा श्रृंगार मे !१!

बात करें जब नूर की ,
रंग गई कोहिनूर की , देने को उपहार मे !२!

चन्दन लगे लिलाट पे ,
पोथी पढते खाट पे , देखा उनको बार मे !३!

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
‘ विरोधरस ‘---13. || विरोध-रस के आश्रयों के अनुभाव || +रमेशराज
हिंदी काव्य की नूतन विधा तेवरी के पात्र जिनमें विरोध-रस की निष्पत्ति होती है, ऐसे पात्र हैं, जो इसके आलंबनों के दमन, उत्पीड़न के तरह-तरह... Read more
तेवरी इसलिए तेवरी है  [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी एक ऐसी विधा है जिसमें जन-सापेक्ष सत्योन्मुखी संवेदना अपने ओजस स्वरूप में प्रकट होती है। तेवरी का समस्त चिन्तन-मनन उस रागात्मकता की रक्षार्थ प्रयुक्त... Read more
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी   + रमेशराज
तेवरी एक निश्चित अन्त्यानुप्रासिक व्यवस्था से बँधी एक ऐसी विधा है जिसमें सत्योन्मुखी रागात्मक चेतना का आलोक है। तेवरी क्या है, इसे समझाने का प्रयास... Read more
तेवरी :-- जीना सीखो रौब से !!
तेवरी :-- जीना सीखो रौब से !! — अनुज तिवारी “इन्दवार” जीना सीखो रौब से , जाग उठो तुम ख्वाब से , सोना तो समसान... Read more