.
Skip to content

तेवरी

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

May 18, 2017

जिनको देना जल कहाँ गये
सत्ता के बादल कहाँ गये ?
कड़वापन कौन परोस गया
मीठे-मीठे फल कहाँ गये ?
जनता थामे प्रश्नावलियां
सब सरकारी हल कहाँ गये ?
जो अरि का सर पल में काटें
उन वीरों के बल कहाँ गये ?
क्या सबको सांप सूंघ बैठा
प्रतिपक्षी सब दल कहाँ गये ?
कल तक तो यहाँ कतारें थीं
चौराहों के नल कहाँ गये ?
तुम दानी कर्ण बने क्यों थे
अब कहते कुण्डल कहाँ गये ?
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
खुशियों  के अब  जाने कहाँ घराने हो गये
खुशियों के अब जाने कहाँ घराने हो गये इस दिल को मुस्कुराए हाय ज़माने हो गये नज़र रह गई तकती मौसम-ए-बरसात को बादलों के जाने... Read more
रिश्ते तो अब आम हो गये
रिश्ते में जो भी अपने थे, देखो, अब सब आम हो गये, कहाँ जानते लोग हकीकत, हमीं यहाँ बदनाम हो गये l मैने वह ही... Read more
दो किनारे रह गये...
अपनों के लिए हमेशा हारती रही! जीतने का हुनर धीरे-धीरे भूलती गयी सोचा था एक दिन सब सुलझ जायेगा ये कहाँ मालूम कि मैं इतना... Read more
प्रिय मित्र जुगाड़....
कहीं भी हो तुम्हारे बिना सारे काम अधूरे जान पड़ते हैं! प्रिय मित्र 'जुगाड़' यदि तुम किसी बाबू की टेबल पर लग गये तो कागजी... Read more