.
Skip to content

तेवरी

DrRaghunath Mishr

DrRaghunath Mishr

तेवरी

December 23, 2016

मौजूदा दशा

आज का राजनेता 12
अमीरों को ही सदा देता 16
गरीबों से ही छीन लेता, परंपरा इस देश की .16,13 =29

जो आदर्शवादी
है बहुत मोह माया वादी
जुबान से मानवतावादी,परंपरा इस देश की.

धांधली चहुँ ओर है
अन्धकार है प्राणि मात्र पै
नेताओं की है बस जै,परंपरा इस देश में.

गरीब का इम्तिहान
अमीर ही कहलाए महान
पूजें उसको ही सभी लोग, परंपरा इस देश की.

‘सहज’ का है मानना
असल किसी को है न जानना
दुर्दिन में नहीं पहिचानना,परंपरा इस देश की.
@डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता/साहित्यकार
सर्वाधिकार सुरक्षित

Author
DrRaghunath Mishr
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' अधिवक्ता/साहित्यकार/ग़ज़लकार/व्यक्तित्व विकास परामर्शी /समाज शाश्त्री /नाट्यकर्मी प्रकाशन : दो ग़ज़ल संग्रह :1.'सोच ले तू किधर जा रहा है 2.प्राण-पखेरू उपरोक्त सहित 25 सामूहिक काव्य संकलनों में शामिल
Recommended Posts
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' की कुछ रचनाएँ.
कुण्डलिया 000 जागो प्रियवर मीत रे ,कहे सुनहरी भोर. चलना है गर आपको , सुखद लक्ष्य की ओर. सुखद लक्ष्य की ओर ,बढेगें अगर नही... Read more
अन्न
Neelam Sharma लेख Jun 8, 2017
सारगर्भित लेख हमारी भारतीय संस्कृति कर्म प्रधान संस्कृति है। पूरे विश्व में भारत अपनी संस्कृति और परंपरा के लिये प्रसिद्ध देश है। ये विभिन्न संस्कृति... Read more
तेवरी। नोट के बदलते तेवर।
तेवरी ।नोट के बदले तेवर ।। राजनीति है झूठ की । आँधी आयी लूट की । महिमा अपरंपार है ।। बदला लो अब ओट का... Read more
‘ विरोधरस ‘---13. || विरोध-रस के आश्रयों के अनुभाव || +रमेशराज
हिंदी काव्य की नूतन विधा तेवरी के पात्र जिनमें विरोध-रस की निष्पत्ति होती है, ऐसे पात्र हैं, जो इसके आलंबनों के दमन, उत्पीड़न के तरह-तरह... Read more