.
Skip to content

तेवरी

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

May 4, 2017

मैं भी अगर भाट बन जाता
गुण्डों को सेवक बतलाता |
कोयल के बदले कौवों को
सच्चा स्वर-सम्राट सुझाता |
सारे के सारे खलनायक
मेरे होते भाग्य-विधाता |
ज़हर घोलता नित समाज में
सज्जन को पल-पल गरियाता |
धन-दौलत की कमी न होती
पुरस्कार पाकर मुस्काता |
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
जनता पर वार उसी के हैं चैनल-अख़बार उसी के हैं | इसलिए उधर ही रंगत है सारे त्योहार उसी के हैं | सब अत्याचार उसी... Read more
**** जिंदगी ***
[[[[ ज़िंदगी ]]]] दिनेश एल० "जैहिंद" ये जिंदगी क्या है....? पल दो पल का खेला है !! ये दुनिया क्या है....? पल दो पल का... Read more
मिलन के पल
प्रिय ! तुम्हारे साथ के वह पल या तुम्हारे बिना यह पल दोनों पल, कैसे हैं ये पल ? जला रहे हैं मुझे पल पल... Read more
प्रकृति माँ
____________________ सारे जग की एक ही सच्चाई है बिन माँ ज़िन्दगी भी पराई है राहो से नही भटकुँगा कभी में साथ हर पल माँ तेरी... Read more