.
Skip to content

तेरे बिन

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

कविता

May 20, 2017

तेरे बिन
___________

मै यहाँ हूँ
दिल वहाँ है
बिखरा बिखरा सा अपना जहां है
सपनों की इस दौड़ में खोये
अपने गुम जाने कहाँ हैं

तेरी याद
____________

तेरी यादों के गुलदस्ते से
नन्ही कली जो
फूल बन मुस्काई
महका मेरा रोम रोम
हर अंग से
तेरी खुश्बू आई

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
बैतूल (म.प्र.)

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
तेरी यादो का सहारा है
अब तो बस तेरी यादो का सहारा है यह दिल तेरे बिन बेसहारा ही बेसहारा है तेरी जुदाई मुझे हर पल तडपाती है जब भी... Read more
नई दिल्ली में चल रहे 69वें निरंकारी संत समागम( 19-20-21नवंबर)में "सत्गुरु बाबा हरदेव सिंह जी महाराज" को समर्पित कवि दरबार में शीर्षक "कर्ज चुकाया जा... Read more
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू  लायी.
आज फिर तेरी याद आई-२ रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई, आज फिर तेरी याद आई-२ !! देखता हूँ राह घर आँगन... Read more
तेरी बेरुखी
तेरी बेरुखी _________ ""तू अपने ग़म से आज़िज है मैं तेरे ग़म से अफ़शुर्दा तू है मशग़ूल औरों में मैं तुझ बिन अश्क़ में गुम... Read more