तेरे बगैर दुनिया में कौन सगा है माँ

**** तेरे बगैर दुनिया में कौन सगा है माँ ****

तेरे वजूद से मेरा , वजूद बना है माँ
तेरे बगैर दुनिया में, कौन सगा है माँ

नही है ताकत जमाने में तुझे हरादे जो
तेरी दुआओं से मेरा , रूतवा जवां है माँ

ना मंदिर जाता हूँ , ना पढता हूँ कुरान को
तेरे कदमों को छूकर, सब पा लेता हूँ माँ

पूरी दुनिया में कोई नही है , तुझसे सुंदर
मुझे अपनी बांहो में , आज भरले माँ

बदनसीब है वो होती नही है , माँ जिनकी “सागर”
बदनसीब वो भी है , जो माँ को माँ नही कहता माँ
************
बैखोफ शायर/गीतकार/लेखक
डाँ. नरेश कुमार “सागर”
************
मर्दस.डे . की हार्दिक शुभ कामनाऐं

Like Comment 0
Views 63

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing