.
Skip to content

तेरी यादों के साये में जिंदगी का चिराग जल रहा है

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

गज़ल/गीतिका

October 26, 2016

तेरी यादों के साये में जिंदगी का चिराग जल रहा है,
वक़्त ठहर गया है बस सूरज निकलकर ढ़ल रहा है।

तुम्हारे इक वादे पर जिंदगी की रफ्तार रुकी हुई है,
दिखावे को सिर्फ साँसों का सिलसिला चल रहा है।

कैसे कह दूँ तुमने बेवफाई की मुझसे मोहब्बत में,
ये मेरा ही विश्वास था जो मुझे पल पल छल रहा है।

कमी रह गयी उस खुदा की मेरी तकदीर लिखने में,
दिल का दर्द बन कर आँसू आँखों से निकल रहा है।

दिल की धड़कनें अब भी पुकारती हैं नाम तुम्हारा,
जुदाई की आग में मेरा पत्थर दिल पिघल रहा है।

सुलक्षणा कब तक करोगी इंतजार पूछते हैं लोग,
पर वो क्या जाने मिलने को ये दिल मचल रहा है।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
मेरी दुनिया तेरी यादों के साये में रहती है
मेरी दुनिया तेरी यादों के साये में रहती है कभी हँसती है मुझ पर ये कभी मुझमें ही रोती है सुबह से शाम तक साथी... Read more
पतझड़ है ज़िंदगी
वो छोड़ा है शहर जबसे पतझड़ है ज़िंदगी भीगी-भीगी सी आंखे है पतझड़ है ज़िंदगी बसर करे कहाँ ढह गया है आशियाना खो गई है... Read more
यादों  के झोकें
यादों के तेरे जब झोकें चले आते हैं सांसों मे तेरी महकों के गुलाब चले आते हैं । ख्वाबों मे गुजरे हुए हसीन वो पल... Read more
तेरी यादें
जब से देखा तुमको मेरा दिल मचल सा गया है तेरे चेहरे का नूर मेरी आंखों में उतर सा गया है तेरी जुदाई मुझे हर... Read more