Nov 3, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

“तेरी मन्नतों के धागे माँ”

तेरी मन्नतों के धागे
मेरी उम्र के साथ बढ़ रहे है माँ
एक तेरे ही प्यार के चाँद की
कभी अमावस नहीं होती माँ।

तेरे होने से जिंदा है मुझमें बचपन
कुछ सीखने की ललक
अपने सफेद बालों और झुर्रियों मे
तू कितनी सुन्दर दिखती है माँ।

जब तू यह कहती है
मैं सम्मान हूं नाज हू तेरा
तू सोच भी नहीं सकती
उस एक पल मे सदियाँ जी लेती हूं मैं माँ।

डाँ सीमा रानी, गाजियाबाद

Votes received: 160
24 Likes · 216 Comments · 1307 Views
Copy link to share
Dr.seema Rani
Dr.seema Rani
1 Post · 1.3k Views
जीवन चलने का नाम... Email id seemadrseema101@gmail.com View full profile
You may also like: