.
Skip to content

तेरी आंखे

Naval Pal Parbhakar

Naval Pal Parbhakar

कविता

May 16, 2017

तेरी आंखें

तेरी आंखों की क्या तारीफ करूं ।
ये हैं गहरी झील सनम
सोचता हूं इनमें डूब मरूं
तेरी आंखों की गहराई का
शायद कोई अन्त नही
नीली-नीली इन आंखों में
समुन्द्र लगते हैं कई
दिल चाहता है समुन्द्र में उतर
जी भर आज गोते लगा लूं ।
तेरी आंखों की क्या तारीफ करूं ।
-0-
नवल पाल प्रभाकर

Author
Recommended Posts
मैं अपने शब्दों से तेरी खूबसूरती कैसे बयां करूं
मैं अपने शब्दों से तेरी खूबसूरती कैसे बयां करूं, आईने की तरह तुझे अपने आगे शजा लिया क्या करूं, या फिर देवी की तरह तेरी... Read more
गहरा
Neelam Sharma गीत Aug 1, 2017
आंख से गहरा भी सागर कौन है? पूछने पर जवाब न मिला, देखो सारी खुदाई मौन है। जैसे बरसों से बहती स्वच्छ, कलकल करती सरिता... Read more
**  मालिक की सौगात ***
अल्फ़ाज नहीं है ये मेरे उस मालिक की शौगात है ये मैं तो केवल इक जरिया हूँ वो इश्क महोबत का दरिया है जर्रा-जर्रा जिससे... Read more
सनम
Neelam Sharma गीत May 31, 2017
वल्गा- सनम कहूं खुदा की इनायत या तक़दीर का करम हुआ। ले तेरी चाहत,तेरी इबादत से आज तेरा सनम हुआ। हकीकत है,सपना है या फिर... Read more