.
Skip to content

तेरी आँख का काजल

Rishav Tomar (Radhe)

Rishav Tomar (Radhe)

गज़ल/गीतिका

September 8, 2017

घटा घनघोर से प्यारा तुम्हारी आँख का काजल
घनेरी साँझ से गहरा तुम्हारी आँख का काजल

तुम्हारी जुल्फ के साये में जब भी सांस लेता हूँ
हमारी जान लेता है तुम्हारी आँख का काजल

कभी राधा कभी मीरा कभी सीता बनाता है
तुम्हें नव रूप देता है तुम्हारी आँख का काजल

हिमालय की बुलंदी पर घाना जो मेघ दिखता है
उसी जैसा तेरे रुख पर तुम्हारी आँख का काजल

मृग कस्तूरी सा छाया है मेरी आँखों मे ये बसकर
मुझे पागल किये जाता तुम्हारी आँख का काजल

ऋषभ को तुम कहो राधे कहो चितचोर चाहे जो
मगर चित को चुराये है तुम्हारी आँख का काजल

Author
Rishav Tomar (Radhe)
ऋषभ तोमर अम्बाह मुरैना मध्यप्रदेश से है ।गणित विषय के विद्यार्थी है।कविता गीत गजल आदि विधाओं में साहित्य सृजन करते है।और गणित विषय से स्नातक कर रहे है।हिंदी में प्यार ,मिलन ,दर्द संग्रह लिख चुके है
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more