Oct 17, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

तू हार न अभी

तू हार न अभी
छमता को अभी पहचानना है
ख़ामोशी को लगा न गले
तपते सूरज को निहारना है
कर न नीरस मन को
अभी बाकी है कुछ रातें
अभी बाकी है कुछ बाते
अभी बाकी है वो जज़्बा
जो मरता नहीं है
कुछ सपने टूटने से
यह संसार बिखरता नहीं है
हस के चल दे राहों पर
धूमिल पड़ा है जो
आज फिर से उसे सवारना है
तू हार न अभी
छमता को अभी पहचानना है
– सोनिका मिश्रा

1 Like · 3 Comments · 332 Views
Copy link to share
Sonika Mishra
29 Posts · 5.9k Views
Follow 1 Follower
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए... View full profile
You may also like: