.
Skip to content

तू हार न अभी

Sonika Mishra

Sonika Mishra

कविता

October 17, 2016

तू हार न अभी
छमता को अभी पहचानना है
ख़ामोशी को लगा न गले
तपते सूरज को निहारना है
कर न नीरस मन को
अभी बाकी है कुछ रातें
अभी बाकी है कुछ बाते
अभी बाकी है वो जज़्बा
जो मरता नहीं है
कुछ सपने टूटने से
यह संसार बिखरता नहीं है
हस के चल दे राहों पर
धूमिल पड़ा है जो
आज फिर से उसे सवारना है
तू हार न अभी
छमता को अभी पहचानना है
– सोनिका मिश्रा

Author
Sonika Mishra
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||
Recommended Posts
जीवन एक संघर्ष
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है अभी जीवन के सार बाकी है अभी तो निकले ही घर से लक्ष्य को पाने को ये... Read more
अब ना हार मान तू ....।
अब ना हार मान तू ....। उठ अब ना हार मान तू , जीत जिंदगी को जीत का श्रृंगार कर.। हार भी जीत का इक... Read more
मत मान हार
मत मान हार तू जरूर जीतेगा, अपने मुरझाए बगीचे को तू ही तो सींचेगा । माना किस्मत की मार से तू कमजोर हो गया, इन... Read more
शरीर ही तो झुलसा है... रूह में जान अब भी बाकी है.. हिम्मत से लड़ूंगी ज़िन्दगी की लड़ाई आत्मसम्मान मेरा अब भी बाकी है... मिटाई... Read more