.
Skip to content

तू मेरा खुदा है //ग़ज़ल

दुष्यंत कुमार पटेल

दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

गज़ल/गीतिका

July 21, 2016

तू मेरा खुदा है तुम्हें छोड़ कहाँ जाऊँ
हँस के चाहत के हर ग़म सहा जाऊँ

चल आज भीगे सावन की बारिश में
खुद को भूला के तुझमें समा जाऊँ

तू मेरी तू मेरी दिल की है धड़कन
तेरी ही चाहत की धुन में रमा जाऊँ

गुजरे जब भी तू सनम मेरी गली से
तेरी हुस्न दीदार के लिये मरा जाऊँ

तू हमसफ़र है तू ही ज़िंदगी है
तू एक नदी है तेरे साथ बहा जाऊँ

दिल में छुपा लूँ निगाहों में बसा लूँ
बनके तेरा चाँद इश्क में ढला जाऊँ

कवि :-दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

Author
दुष्यंत कुमार पटेल
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com
Recommended Posts
जिन्दगी है तू ही...................... तू ही प्रीत है |गीत| “मनोज कुमार”
जिन्दगी है तू ही और तू ही मीत है तू साँसें तू धड़कन तू ही गीत है तू आशा मिलन तू ही संगीत है तू... Read more
??तेरी आँखों की मस्तियाँ??
पिलाए जा अपनी आँखों से प्यार के जाम। मिलाकर हृदय के शबनमी सरबती-से क़लाम।। मैं मदहोश हो जाऊँ तेरी नशीली आँखों में डूब। कभी बाहर... Read more
तू ही तो मुझको प्यारा है
मेरी दुनिया मेरी जन्नत तू ही तो जीवन सारा है| मेरी हर आरजू तू ही ,तू ही तो मुझको प्यारा है|| मेरा जीवन मेरी धड़कन... Read more
जीवन भी तू
मुझसे खपा न होना कभी तू जीवन भी तू दुनिया भीै तू तू ही तो खुशियां देती है जान मेरी  तू चाहत भी तू बचपन... Read more