31.5k Members 51.9k Posts

तू मुझे भा गई

भा गई मुझे भा गई मुझे भा गई2
तेरी सूरत वो जाना मुझे है भा गई

तू दिखती नूरानी
तेरा रूप है सुहानी
मुझे लगती है सुंदर
जबसे आई है जवानी

भा गई मुझे भा गई मुझे भा गई
तेरी सूरत वो जाना मुझे भा गई

तू है परियों की रानी
चाल तेरी मस्तानी
मुझे लगती करंट
हरपल करे मनमानी

भा गई मुझे भा गई मुझे भा गई
तेरी सूरत वो जाना मुझे भा गई

तू सदा रहे आबाद
रब से करूं फ़रियाद
नहीं तुझको खबर
हरदम करूं तुझे याद

भा गई मुझे भा गई मुझे भा गई
तेरी सूरत वो जाना मुझे भा गई

करती राह में ठिठोली
मारे बातों से गोली
घोल मिश्री से घोले
तेरी मीठी प्यारी बोली

भा गई मुझे भा गई मुझे भा गई
तेरी सूरत वो जाना मुझे भा गई

तेरी पतली कमर
थोड़ी लचके अगर
करे मुझ पर सितम
मेरी जान है मगर

भा गई मुझे भा गई मुझे भा गई
तेरी सूरत वो जाना मुझे भा गई

तेरे नयनों के काजल
जैसे दिखते हैं बादल
तेरा रूप सुहाना
मुझे करता है घायल

भा गई मुझे भा गई मुझे भा गई
तेरी सूरत वो जाना मुझे भा गई

1 Like · 5 Views
PANDIT SHAILENDRA MRITUNJAY SHUKLA
PANDIT SHAILENDRA MRITUNJAY SHUKLA
Khajni bajar Gorakhpur
26 Posts · 178 Views
You may also like: