तू मुझमें पूरी कहानी है

मैं जिक्र सा हूँ तुझमें
और तू मुझमें पूरी कहानी है

मैं इश्क़ सा हूँ तुझमें
और तू मुझमें मेरी निशानी है

मैं कैद कर लिया जुबान अपनी
पर तू मेरे आंखों की जुबानी है

अपनें सारे जज्बात रोक लूं मैं
पर धड़कनों में कहाँ आसानी है

तू है तो सब नजर आता है
तेरे बिन हर भीड़ वीरानी है

तेरा सार मिल जायेगा मुझमें
तेरा दर्द मेरे आंखों का पानी है

तेरे नाम की चमक है आंखों में
तेरे नाम से मेरी कहानी है |

2 Comments · 17 Views
शायर, कवि ( 9109633450), एजुकेशन- BE ( Bachelor of Engineering) , Mechanical Branch
You may also like: