Skip to content

तू क्या है?

Rita Yadav

Rita Yadav

कविता

July 2, 2017

तू क्या है? ए तू ही जाने ,,
तेरा मन दर्पण ही जाने ,,
दूजे के भला बुरा कहने से,,
क्यों हर्ष-विषाद करें.?
दूसरे का कहना न मान,,
तू क्या है? यह खुद पहचान,,
पहले मन दर्पण में झांक ,,
फिर तू अपने आप को आंक,,
दूसरे को कभी बुरा न बोल,,
पहले अपने आप को तोल,,

रीता यादव

Share this:
Author
Rita Yadav
Recommended for you