Feb 15, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

तू इश्क, तू खूदा

??????
तू इश्क , तू खूदा,
तू इबादत है मेरी।
तुमको पाकर पूरी हुई ,
हर चाहत मेरी।

तेरे बाहों के घेरे में,
है जन्नत मेरी।
यही चैन पाती है
सुकुन जिन्दगी मेरी।

ख्बाईश-ए -जिन्दगी,
बस इतनी सी है मेरी,
तेरे बाहों में ही
जान निकले मेरी।
?????
—लक्ष्मी सिंह

164 Views
Copy link to share
लक्ष्मी सिंह
827 Posts · 273.9k Views
Follow 52 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: