23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

तूफ़ा में डूबा साहिल नजर नही आता

*तूफ़ा में डुबा साहिल नजर नही आता*

◆ऐसा नहीं के वो मेरे शहर नही आता,
धुँधली यादों में वो नज़र नहीं आता।

◆चली आती है कहर बन यादें उनकी
तूफान में डूबा साहिल नज़र नही आता।

◆कितनी राते गुज़री है रो रोकर मेरी,,
खुशियों का अब वो मंजर नजर नही आता।

◆उदासी चेहरे पर है कितनी मेरे,,
लबों को अब मुस्कुराना नही आता।

◆इश्क में दिल टूटा है कई बार हमारा
अब गैरों पर बिल्कुल यक़ीन नही आता।

◆दूरियां बड़ा रहे अजनबी समझकर मुझसे,,
क्यूँ अब उनको मुझे अपना बनाना नही आता।

◆नग़्मे तो किताबों में पड़े है बहुत
पर जाने क्यूँ अब मुझे गुनगुनाना नही आता।

*गायत्री सोनु जैन*

187 Views
Sonu Jain
Sonu Jain
Mandsour
290 Posts · 16.2k Views
Govt, mp में सहायक अध्यापिका के पद पर है,, कविता,लेखन,पाठ, और रचनात्मक कार्यो में रुचि,,,...
You may also like: