.
Skip to content

** तूफ़ान से पहले शान्ति ***

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

March 20, 2017

तूफ़ान से पहले शांति होती है
तूफ़ान के बाद भी शांति होती है
फर्क सिर्फ इतना सा है मन में दबी
इच्छाऐं बाहर आने को आकुल होती है
हम उन्हें दबाने की कौशिश करते है और
वे और ज्यादा बलवती होकर तूफ़ान का रूप
ले लेती है और हम उन पर अपना नियंत्रण खो
देते हैं और वो हम पर पूर्णतः हावी हो जाती है
तूफ़ान के बाद की शांति ही वास्तविक
शांति होती है क्योकि तब हम अपने आप को पूर्णतः
निरीह प्राणी मानते हुए उस परम् सत्ता के प्रति अपने आप को समर्पित कर देते है क्योंकि तब हम
शक्तिहीन हो जाते है और हमें अपनी शक्ति पर पूर्ण विश्वास नही रह जाता ।
जीवन में आने वाले तूफानों से हमे घबराना नहीं है क्योंकि तूफ़ान के बाद की शांति वास्तविक
शान्ति होती है ।
चाहे प्रत्यक्ष जीवन में आनेवाला तूफ़ान हो
या फिर ह्रदय में आने वाला तूफ़ान हो ।
तूफ़ान के बाद की शांति ही वास्तविक शांति
होती है ।
? मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में... Read more
Recommended Posts
पढ़कर कोई कलेक्टर तो बनना नहीं
कम्प्यूटर के दौर में हम जितनी तेजी से आगे बढ़ते जा रहे है, उतनी ही तेजी से हमारी शिक्षा के पारंपरिक तौर-तरीके व साधन हमसे... Read more
पानी न बिजली फिर भी पहाड़ से लगाव.
वर्ष 1947 में बारह के गजर के साथ आधी रात को जब यह मुल्क आजाद हुआ, उन दिनों भी पहाड़ की औरतें पानी भरने के... Read more
हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।
हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।हर साल हम स्वाधीनता दिवस और गणतंत्र दिवस जोर शोर से मनाते हैं और अपने महान राष्ट्रीय नेताओं... Read more
राखी रक्षा बंधन और रिश्तें
राखी का त्यौहार आ ही गया ,इस त्यौहार को मनाने के लिए या कहिये की मुनाफा कमाने के लिए समाज के सभी बर्गों ने कमर... Read more