.
Skip to content

तु भी माँ मैं भी माँ

Archna Goyal

Archna Goyal

कविता

February 9, 2017

माँ तेरी याद आती है जब बेटी को गुड़िया कह कर पुकारती हूँ
तो तेरे मुहँ से अपने लिए मुनिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब सहलाती हूँ अपनी बेटी के गाल
तो अपने गालो पर तेरे होठो की चुमिया माँ ।

माँ. तेरी याद आती है जब अपनी बेटी के बाल सवारती हूँ
तो तेरे हाथ से बनी दो चोटियाँ माँ।

माँ तेरी याद आती है जब जागती हूँ अपनी बेटी के लिए
तो आँखो मे काटी होगी तुमे भी कितनी रतिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब बच्ची को खाना खिलाती हूँ
तो तेरे हाथ की गरम नरम रोटिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब बेटी के कुरते मे बटन लगाती हूँ
तो तेरे हाथ से मेरे फ्राक पर बनी बुटिया माँ।

माँ. तेरी याद आती है जब बेटी आँखो से एक पल को भी ओझल हो
तो तेरे मेरे बीच की कोसौ दुरिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब तेरी ममता की माला मे पुर्णता
तो अपनी ममता की माला मे कमिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब अपनी बेटी को गोद मे लेटाती हूँ
तो तेरी गोद मे समाई सारी दुनिया माँ।

??????????????

Author
Archna Goyal
Recommended Posts
माँ मेरी माँ
???? माँ मेरी माँ, मुझे छोड़ के मत जाओ कुछ दिन तो मेरे साथ बिताओ। माँ मैं तुम बिन अकेली हो जाती हूँ, जब तुम... Read more
माँ तेरी याद के है बहुत मौके
जब गूंजते ये शब्द कानो में किसी माँ के, बेटा अभी खाया ही क्या है ले एक और खा ले चपाती तब माँ तेरी याद... Read more
एक बेटी की अपनी माँ से अपेक्षा
मेरी एक अपेक्षा मेरी माँ से कि माँ क्यूँ तू मुझे अपना बेटा नहीं समझती, क्योंकि देखा है तेरी आँखों में मैंने एक बड़े बेटे... Read more
घर याद  आता है माँ
?घर याद आता है माँ ? सब छोड जाते वक्त के साथ पर माँ की वह दुलार साथ रहती है , गम मिलते है जिंदगी... Read more