तु नही है मेरा,बस तेरे साथ कि कहानी है मेरी |

अक्श आंखों में , नीगाहों में कहानी है तेरी
आइये देखीये,ये इक ख्वाब पुरानी है मेरी |

उम्मीदों के दिये रोज जलाता हुं इन दरख्तों पे
शायद मेरे लीये,ये अनमोल निशानी है तेरी |

तु नही है तो क्या, दुनिया में मेरे जीने के लिये
तेरे साथ गुजरे वो, कयी यादें जबानी है मेरी |

मैं मुसाफिर हुं, भटकता हुं औबाशों कि तरह
तुझे क्या,तुमको मिली महल खानदानी है तेरी |

युं तो सब है मेरा, बस एक दर्द है जो टिसता है
तु नही है मेरा,बस तेरे साथ कि कहानी है मेरी |

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share