.
Skip to content

तुम

चौधरी कृष्णकांत लोधी

चौधरी कृष्णकांत लोधी

कविता

April 15, 2017

? तुम ?

मुझे जरूरत है ,,,,
,तुम्हारी
तुम्हारी मोहब्बत की
दिल टूट कर बिखर जायेगा ,
अंधेरे में मेरा
छूटा जो साथ तुम्हारा
पानी की लहरों की तरह चंचल
तितली के पंखों की तरह खूबसूरत

“तुम ”

समा जाओ ना
मेरी जिंदगी में
बल्कि मेरे अंतर्मन में
वैसे ही
जैसे
धूप में छाया
कृष्ण ने राधा के प्रेम की तरह
पर
प्रेम तो एक प्रेम है
फिर चाहे धूप का छाया से हो
या
कृष्ण का राधा से
प्रेम रहता है वहीं
जहां होता है दोनों को
एक दूसरे पर
“पूर्ण-विश्वास ”
यह विश्वास बना रहे
मेरा तुम्हारा
हमेशा – सदा
बस खुदा से यही दुआ है ….
बस खुदा से यही दुआ….
✍ चौधरी कृष्णकांत लोधी (के के वर्मा बसुरिया) नरसिंहपुर मध्य प्रदेश

Author
Recommended Posts
कृष्ण मैं भी नहीं, राधा तुम भी नहीं..
कृष्ण मैं भी नहीं, राधा तुम भी नहीं, प्रेम फिर भी इबादत से, कम भी नहीं हाथ मेरा पकड़कर, जो तू थाम ले, फिर ज़माने... Read more
प्रेम की परिभाषा
प्रेम नहीं शादी का बंधन प्रेम नहीं रस्मों की अड़चन, प्रेम नहीं हैं स्वार्थ भाषा प्रेम नहीं जिस्मी अभिलाषा प्रेम अहम् का वरण नहीं हैं... Read more
*****प्रेम में अंधे न बनो*****
प्रेम की भाषा को समझ कर प्रेम करो प्रेम में डूब कर न इतना अँधा बनो कि प्रेम और वासना का अन्तर न रहे फिर... Read more
मुक्ति, युक्ति और प्रेम
मुक्ति, युक्ति और प्रेम // दिनेश एल० “जैहिंद” हो तुम कितनाहुँ बड़े कर्मयोगी ।। हो तुम कितनाहुँ बड़े धर्मयोगी ।। जनम-मरण के बीच लटके रहो,,... Read more