Aug 10, 2016 · शेर

तुम

मरने की कोई ख्वाहिश नही मेरी, लेकिन बेबस हैँ ए जिन्दगी, कि “तेरे बिन” जी भी तो नही सकते।

1 Like · 1 Comment · 63 Views
I am a freelance writer...
You may also like: