.
Skip to content

तुम हो

Hardeep Bhardwaj

Hardeep Bhardwaj

गज़ल/गीतिका

April 25, 2017

क़ज़ा भी तुम हो हयात भी तुम हो
डायरी के पन्नों पर उतरे लफ्ज़ भी तुम |

सर्द मे खिड़की से आती मीठी धुप सी तुम
खलिहानो मे आयी नयी फसल भी तुम हो |

तुम ही तो हो सपनो से भरे नयनो के नमकीन पानी मे
देर रात की करवटों मे दबी सिसकियों मे भी तुम हो |

बस एक ही ख्वाईश है मेरे हमनशींं
ये प्यार ना कम हो एक दूसरे में हम गुम हो |

क़ज़ा – Death , हयात – Life

— हरदीप भारद्वाज

Author
Hardeep Bhardwaj
Software Developer by profession, Writer from my heart. Love English, Hindi and Urdu literature. Email: hardeepbhardwaj67@gmail.com
Recommended Posts
तुम प्रीत की छाँव हो
तुम हँसी सौगात हो, फूलों की बरसात हो l तुम दिन रात हो, मेरी धड़कन हयात हो l तुम मेरे अरमान हो, दिल का मेहमान... Read more
मेरे हमसफ़र
एक आहट सी होती है, तो लगता है कि तुम हो। कोई खिड़की कही खुलती है तो लगता है कि तुम हो।। हो नही रु-ब-रु... Read more
नारी अबला
#नारी_अबला हे..! नारी.. तुम प्रमदा, तुम रूपसी, तुम प्रेयसी, तुम ही भार्या, तुम ही सौन्दर्या, तुम सुदर्शना, तुम अलभ्य अनिर्वचनीया| फिर भी तुम अबला..! हे..!... Read more
दिन में भी तुम रात में भी तुम हो मेरे अंदर छिपे जज़्बात में भी तुम हो
दिन में भी तुम रात में भी तुम हो मेरे अंदर छिपे जज़्बात में भी तुम हो बहती हुई फ़िज़ाओं के एहसास में भी तुम... Read more