तुम हो "अटल"

तुम थे अटल तुम हो अटल
इस पार भी, उस पार भी ,
वक्त को डिगना ही था
तुम नाव थे मझधार भी!
था लोभ सत्ता का नहीं
बस मोह कविता से घना ,
धन्य मां की कोख को
जिन लाल तुम जैसा जना !
सत्ता के गलियारों मे तुम
सदियों तक कहते रहोगे ,
बन मलय संगीत में तुम
वीर रस पढते रहोगे !
मंच चाहे जो भी हो
इस पार हो उस पार हो ,
श्रोता हो न हो कोई
बस अटल आधार हो !
निर्भीक हो बेबाक हो
तुम रौद्र भी श्रंगार भी ,
कुछ ओस की बूंदें हो तुम
तुम बर्फ भी अंगार भी!
तुम थे अटल तुम हो अटल
इस पार भी, उस पार भी ,
वक्त को डिगना ही था
तुम नाव थे मझधार भी!

प्रियंका मिश्रा _प्रिया©®

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119 (Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 162

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing