तुम ही हो

मेरी तन्हाइयों का राज तुम हो ।
मेरा कल तुम हो मेरा आज तुम हो।

जब जब तुझको ढूंढा, पाया अपने दिल में ।
जालिम दुनिया ने मिलने ना दिया हमको भरी महफिल में ।

गलती मेरी ही होगी इसमें तेरी कोई खता नहीं ।
क्यों चाहा तुझको खुद से ज्यादा ये मुझको पता नहीं ।

वो डरकर जमाने से बोली की भुला दे मुझे ।
हर धड़कन में तू है क्या करें बता दे मुझे ।

Like Comment 0
Views 86

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share