*"तुम ही तुम'*

“तुम ही तुम “
साँवरे सलोने मोहन ,तेरी सूरत मन में बस गई है।
जिधर देखूं उधर तेरी मुस्कान आंखों में ठहर गई है।
*बस तुम ही तुम सांसो में समाए हुए हो*…..
छेड़े वो बाँसुरिया की मधुर तान,
कानों में जो आके गूंज उठी है।
रिश्तों ने बिछाया जाल माया का ,
उस प्रेम बंधन से जुड़ी हुई हूँ।
तेरे चरणों में जो आके रुकी हुई हूँ।
*बस तुम ही तुम सांसो में समाए हुए हो*….
जगत की शान शौकत झूठी लगती है मुझे,
ये आंखे भर गई तरस गई ,अब तो चले आओ।
तेरी दरस की प्यासी ,अब दर्शन दिखला जाओ।
*बस तुम ही तुम सांसो में बसे समाए हुए हो*….
क्यों भटकते रहे हम ,दरबदर इधर उधर से,
तेरे दर पे आके तुझको निहारु नैनो से बार बार।
मेरी नैया भंवर डोल रही है पतवार पकड़ ले ,
ओ माझी बन खिवैया ,भवसागर पार कर दे।
*बस तुम ही तुम सांसो में बसे समाये हुए हो*…..
खड़ी हूँ तेरे द्वार कबसे आंखे बंद किये हुए ,
कृपा दृष्टि नजरों को घुमा कर अब उद्धार कर दो।
मन की मुरादें पूरी कर दो,अमन चैन शांति जीवन सुखमय कर दो।
*बस तुम ही तुम सांसो में बसे समाये हुए हो*…….

*शशिकला व्यास*

Like 3 Comment 2
Views 40

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share