कविता · Reading time: 1 minute

तुम…. तब और अब (हास्य-कविता)

तुम…. तब और अब
****************************************

तब तुम अल्हड़ शोख कली थी,
अब पूरी फुलवारी हो,
तब तुम पलकों पर रहती थी,
अब तुम मुझ पर भारी हो ।

तब तुम चंचल तितली सी थी,
अब तुम एक कटारी हो,
तब थे नैनोनक्श कँटीले,
अब तुम पूरी आरी हो ।

तब तुम चंदा सी लगती थी,
अब पूरी चिंगारी हो,
तब तुम खास थी इस दुनियाँ में,
अब तुम दुनियाँदारी हो ।

तब तुम आइ लव यू कहती थी,
अब तुम देती गारी हो,
तब तुम मेरा क्रेडिट सी थी,
अब तुम मेरी उधारी हो ।

तब तुम नयी नवेली थी,
अब बच्चों की महतारी हो,
तब तुम होगी किसी और की,
अब तुम प्रिये हमारी हो ।

****************************************
**हरीश*लोहुमी**
****************************************

2 Comments · 283 Views
Like
Author
कविता क्या होती है, नहीं जानता हूँ । कुछ लिखने की चेष्टा करता हूँ तो फँसता ही चला जाता हूँ । फिर सोचता हूँ - "शायद यही कविता हो जो…
You may also like:
Loading...