कविता · Reading time: 1 minute

*** तुम कौन हो ? ***

ख्यालों की मलिका मिलूं तुमसे कैसे

मेरी जां

तेरी कसम मिलने की उमंग है

ख्वाबो से उतरकर दिल में समाई हो

तेरी-मेरी

पहले से जाने क्या पहचान है

रातों में आयी हो दिल में समायी हो

ना जानूं

मैं यह मेरी जान तुम कौन हो ?

ख्यालों से हकीकत में

उतर कर आओ तो जाने

ऐ मेरे ख्यालों की मलिका ।।

?मधुप बैरागी

1 Like · 131 Views
Like
You may also like:
Loading...