.
Skip to content

तुम कौन हो ?

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

August 1, 2017

तुम कौन हो ?
—————–

कभी सोचा है ?
कि तुम कौन हो ?
क्या हो ?
क्यों हो ?
नहीं ना………..
हाँ ! सोचोगी भी क्यों ?
हम जो सोचते हैं !!
आपकी खातिर ||
चलिए मैं बताता हूँ !
कि तुम कौन हो ?
चैत्र की चाँदनी ,
वैशाख की रातें !
ज्येष्ठ में तुम छाँव ,
आषाढ़ की बदली !
सावन की हरियाली,
भाद्रपद की फुहार !
आश्विन की पूर्णिमा ,
कार्तिक की दीवाली !
मार्गशीर्ष की बयार ,
पोष की स्वाति !
माघ की एकादशी ,
फाल्गुन की होली ||
ये सभी तो हो तुम !!
यही नहीं………….
बहुत कुछ हो तुम !
चाँद की ज्योत्सना ,
सूरज की रश्मि !
घरती का धीरज ,
आकाश का मान !
सितारों की चमक ,
ग्रह-नक्षत्रों की चाल !
प्रकृत्ति का सृजन ,
ईश्वर का वरदान !
पक्षियों का कलरव ,
जीवों का जीवन !
सागर की लहरें ,
नदी का प्रवाह !
पर्वत की ऊँचाई ,
मैदानों का विस्तार !
झील की गहराई ,
प्रपात का तीव्र वेग !
सब तुम्हीं तो हो !!
इंसान की इंसानियत ,
ब्रह्मा की माया !
साहित्य का प्राण ,
इतिहास का दावा !
समाज की रीति ,
“दीप” की प्रीति !
नैतिकता के सद्गुण ,
कुदरत का ऋत !
वृक्षों की हरियाली,
गाय का देशी धृत |
सभी तो हो तुम !!
यही नहीं………..
पन्ना का बलिदान ,
पद्मिनी का जौहर !
झलकारी का कौशल ,
लक्ष्मीबाई की वीरता !
मूमल का श्रृंगार ,
हाड़ी का वो शीश !
बच्चों की किलकारी ,
बूढ़ों का आशीष !
आँखों का इंतजार ,
और दिलों का प्यार !
हृदय की तुम धड़कन,
वफाओं का एतबार !
साँसों का स्पन्दन ,
और स्नेहिल वंदन !
तुम ही तुम हो चहुँओर ,
हे ! नारी तेरा अभिनन्दन ||
————————
— डॉ०प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गए
ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गए मैंने तुम से प्यार किया था.....ये तुम क्यों भूल गए तुमको सब कुछ मान लिया था ये तुम क्यों भूल... Read more
दीप जलाते हो
क्यों आस के दिप जलाते हो तुम क्यों सपनो में आते हो? एक बूँद की आस नही जब थक जाते है ढूंढ -ढूंढ जल ,... Read more
नारी तुम अपनी पहचान करो ।
नारी तुम अपनी पहचान करो । उठकर अपना सम्मान करो । अबला नहीं तुम तो सबला हो शक्ति हो तुम ये तो ध्यान करो। नारी... Read more
** तुम वफ़ा क्या जानो **
6.5.17 ***** रात्रि 11.11 तुम वफ़ा क्या जानो तुम जफ़ा क्या जानो क्यों कोई तुमसे ख़फा हो तुम क्या जानो ख़ार है या प्यार है... Read more