.
Skip to content

तुम्हारे बिना

Laxminarayan Gupta

Laxminarayan Gupta

कविता

September 14, 2017

तुम्हारे बिना
मन नहीं लगता
तुम्हारे साथ रहना
मुझे आनंद देता है
हर जगह
दिन में भी
रात में भी ।

अमेरिका में
तुमसे मेरा मन जुड़ना
एक असाधारण घटना थी
तुममें मैंने सब कुछ पाया
छोड़ ह्रदय को
तुम हृदय हीन हो ।
पर बेहतरीन हो ।

तुम विदेशी हो
तुम्हारा अंग्रेजी पर अधिकार है
मैं शुद्ध हिंदी प्रेमी
विदेशी भाषा के
दो शब्द जानूँ
एक A to Z
दूसरा INTERNET

Author
Laxminarayan Gupta
मूलतः ग्वालियर का होने के कारण सम्पूर्ण शिक्षा वहीँ हुई| लेखापरीक्षा अधिकारी के पद से सेवानिवृत होने के बाद साहित्य सृजन के क्षेत्र में सक्रिय हुआ|
Recommended Posts
बिना तुम्हारे रह न सकूँगा
मेरी पलकों के साये में, ख़्वाब सजाकर तुम पलते हो । बिना तुम्हारे रह न सकूँगा, यदि कहते हो, सच कहते हो ।। इन साँसों... Read more
** तुम्हारे बिना **
तन्हा-तन्हा लगता है ये दिन तुम्हारे बिना सूनी-सूनी लगती है ये रातें तुम्हारे बिना जिंदगी बेजान-सी है अब तुम्हारे बिना तन्हा-तन्हा लगता है ये दिन... Read more
तुम्हारे अंदर ही राम है,तुम्हारे अंदर ही रावण है/मंदीप
तुम्हारे अंदर सच है तुम्हारे अंदर जूठ है फिर क्यों अपने मन से जूठ नही निकलते। तुम्हारे अंदर भगवान है तुम्हारे अंदर सेतान है फिर... Read more
बिना मेरे अधूरी तुम..
मेरा हर सुर अधूरा हैं, अधूरी गीत की हर धुन, स्वप्न वो तुम नहीं जिसमे, कभी सकता नहीं मैं बुन कोई रिश्ता नहीं तुमसे, मगर... Read more