.
Skip to content

तुम्हारें आगमन में

दुष्यंत कुमार पटेल

दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

गीत

September 7, 2017

तुम्हारें आगमन में फूलों की बरसात हो जायें l
तू मुस्कुरायें जब खजा में बहार आ जायें ll
मेरे मन के सागर में इश्क की मौजे उठे ,
तेरी पाजेब की छन छन मुझको पास बुलायें ll

तेरी अदाए देखने को चाँद सितारे जमीं पे आयें l
तेरी इंद्रधनुष सी चुनरी को पुरवाइया उड़ायें ll
मधुर है तेरी सदायें कोयल सी पीहू सी l
जो भी गुजरे तेरी गली से दीवाना हो जायें ll

गर हवाए भी तुम्हें छूँ ले तो रुहानी हो जायें l
फागुन के पलाश गुलमोहर तेरे जीवन की राह सजायें ll
सागर की मौजे आ-आ कर तेरे पैरों को चुमें ll
तेरे लब से सूरज शाम की लाली चुरायें ll

दुष्यंत भी तेरी राह देखे बैठ अमवा छाँव में l
मेरी शायरी मेरे इश्क की चर्चे हो मोहतरा गाँव में ll
तेरे आने से मेघा बरसे कोयल पपीहा गीत गायें l
रुमानी सतरंगी मौसम गलियाँ गुलजार हो जायें ll

तसव्वुर में हमतुम खोयें रहें ये मौसम घड़ी ठहर जायें l
तेरी बाहों में आके लिपटे रहें बिन बादल बरसात हो जायें ll
मेरे दिलवर मेरे हमराही मेरे रब बस तू है बस तू ही है l
तेरे दिल की गली में शामो सहर ये आशिक नज़र आयें l
– दुष्यंत कुमार पटेल

Author
दुष्यंत कुमार पटेल
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com
Recommended Posts
प्रिया बावरी
*कविता* हो राधा मीरा की जैसी,तुम कान्हा की दीवानी l है चल चितवन है चन्द्रवदन, तुम अलबेली मस्तानी ll हो तितली सी पग है नलिनी,हो... Read more
समझ बैठा था बुत लेकिन....
झुकी थी जो अभी तक, वह निगाहें खेलती सी है l समझ बैठा था बुत लेकिन ,जुबा भी बोलती सी है ll खड़ी ऊंची हवेली... Read more
II....बिन तेरे....II
हम भी अपनी सी कहेंगे देखना l लोग अपनी भी सुनेंगे देखना ll दीप बाती और गुल खुशबू बिना l बिन तेरे हम ना रहेंगे... Read more
II  राह में था काफिला....II
राह में था काफिला भी खो गया l मंजिलों का आसरा भी खो गया ll वह न आए याद क्यों जाती नहीं l अक्स खोया... Read more