तुम्हारी सोच का जवाब नहीं

तुम्हारी सोच का जवाब नहीं
बेटा होने पर रात्रि भोज
बेटी होने पर खबर नहीं
तुम्हारी सोच का जवाब नहीं ।

बेटा होने पर डंका बाजे
आतिशबाजी की कमी नहीं,
बेटी होने पर शोकाकुल
चेहरे पे किसी के खुशी नहीं।

तुम्हारी सोच का जवाब नहीं ।

बेटा चाहे बने दुर्व्यसनी
अवगुणों की कसर नहीं,
बेटी चाहे बने सुशीला
उसकी सेवा की कदर नहीं।

तुम्हारी सोच का जवाब नहीं।

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "बेटियाँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 63

Like Comment 0
Views 284

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing