Jun 10, 2021 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

तुम्हारी याद में ———- मुक्तक

तुम्हारी याद में हमने,
कई रातें गुजारी हैं।
हर इक रात के किस्से,
एक से एक भारी है।।
न थी नींदे नहीं चैना,
नैनो का काम बस बहना।
मिले हो अब कहीं जाके,
साथ रहने की बारी हे।।
***********************************
राजेश व्यास अनुनय

2 Likes · 2 Comments · 8 Views
Copy link to share
#28 Trending Author
Rajesh vyas
561 Posts · 19k Views
Follow 55 Followers
रग रग में मानवता बहती। हरदम मुझसे कहती रहती। दे जाऊं कुछ और ,जमाने तुझको,... View full profile
You may also like: