.
Skip to content

तुमसे मिलु मैं कुछ इस तरह…

Neeraj Chauhan

Neeraj Chauhan

मुक्तक

July 21, 2016

तुमसे मिलु मैं कुछ इस तरह, की कोई मुझे आवाज़ ना दे,
घुल जाउ तुममे इस कदर, की धड़कने मेरा साथ ना दे
कह जाउ तुमसे इस तरह, की कोई सुन भी ना पाये,
आंखे बयाँ करें और जुबां जज़्बात ना दे.

– © नीरज चौहान

Author
Neeraj Chauhan
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।
Recommended Posts
तूफान साहिलों पे ठहरने न दे  मुझे
आज की हासिल ग़ज़ल ******** 221 2121 1221 212 अपनी निगाहों से तू उतरने न दे मुझे मैं बावफ़ा हूँ यार बिख़रने न दे मुझे... Read more
एक प्यारी सी सुबह
मेरी कलम से........ आज तुमसे पहले मैं जाग गया, खिड़की के परदे को हटाया। तो सूरज की सुनहरी किरणों ने, तुम्हारे चेहरे पर चुम्बन किया।... Read more
क्या कहूँ अब तुमसे.......... तेरी हो गयी |गीत| “मनोज कुमार”
क्या कहूँ अब तुमसे तो ये रूह दीवानी हो गयी मीरा सी दीवानी ये दीवानी तेरी हो गयी क्या कहूँ अब तुमसे.......................................... तेरी हो गयी... Read more
-: राज़-ए-मुश्कान :-
Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
तुम्हारी नजरो की कसम, तुमपे फ़िदा हूँ मैं, लाख करू कोशिश विसाल की, मगर तुमसे जुदा हूँ मैं, तुम्हारी जुल्फों की कसम, बहुत मजबूर हूँ... Read more