23.7k Members 50k Posts

" तुमने फिर , डाला है डेरा " !

बढ़ता हुआ कारवां ,
थम सा गया है !
रेत के टीलों से बाहर ,
मन यहाँ है !
छूटा घर –
द्वार देहरी ,
अब पराया है सवेरा !

झिलमिलाते दीप दो ,
रोशन हुए हैं !
हमराही राह चलते ,
थक से गये हैं !
ओट घूँघट –
खोलते पट ,
मुदित सा मन लगे तेरा !

रूप यौवन लादकर ,
आगे बढ़ी हो !
बदले हुए से अर्थ ,
पहचाने खड़ी हो !
डेरे डेरे –
दे के फेरे ,
थका सा समय लुटेरा !

बृज व्यास

371 Views
भगवती प्रसाद व्यास
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
284 Posts · 33.3k Views
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता...
You may also like: