.
Skip to content

*** तुझ सा इक दोस्त चाहिए ***

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

कविता

February 6, 2017

************* तुझ सा इक दोस्त चाहिए ***********

कहते हैं कहने वाले की दुनिया बड़ी खूबसूरत है
में कहता हूँ, कि आप हैं तो तब यह खूबसूरत है !!

न होते आप, तो कैसे चलता यह दुनिया का चलन
हर इंसान का एक दुसरे से, बताओ ? कैसे होता मिलन !!

बगिया तो ऊपर वाले ने कुछ सोच कर ही बनाई थी
एक एक चुन चुन का अपने हाथो से सजाई थी !!

पर कुछ रहनुमा हैं जिस के आशीर्वाद से हम जिन्दा हैं
बस आज के हालत देख कर ,सच बहुत शर्मिंदा हैं !!

आपसी भाईचारे को लोग यहाँ कॅश करने पर उतारू हैं
उन की नजर में तो जैसे सब यहाँ पर दोस्त बजारू हैं !!

अपने रूत्वे पर कभी घमण्ड न कर ओ दुनिया में मुसाफिर
उस की लाठी में आवाज नहीं होती ,वो कब बन जाये काफ़िर !!

प्यार की सौगात जो उस ने दी है, तू उस को यहाँ बांटता जा
“अजीत” तेरे जैसा यार सब को दे, यह दुआ तू करता हुआ जा !!

अजीत तलवार

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
!!** तुझ सा इक दोस्त चाहिए **!!
कहते हैं कहने वाले की दुनिया बड़ी खूबसूरत है में कहता हूँ, कि आप हैं तो तब यह खूबसूरत है !! न होते आप, तो... Read more
हर सफर में मुस्कुराना चाहिए
फ़ासलें दिल के मिटाना चाहिए फूल होठों पर खिलाना चाहिए हर दुआ होगी तेरी पूरी मगर सर इबादत में झुकाना चाहिए ग़म मिले हमको या... Read more
इक घर अपना भी बने प्यारा,,,,
26.07.16 इक घर अपना भी बने प्यारा,,, इक तिनका आज फिर लायी हूँ नीड़ फिर नया इक बनाई हूँ यादों का तिनका एक भी नहीं... Read more
उफ़.... मीठी_चाय...
जज्बाती कलम अपनी कैसे रोक दूँ... उसने जब पूछा तेरा दिल कैसे तोड़ दूँ.... . इजहार-ए-दिल आँखों से कैसे कर दूँ... उसके नाम धड़कनें मेरी... Read more