.
Skip to content

==== तुझे अर्पण ====

Ranjana Mathur

Ranjana Mathur

गीत

September 11, 2017

सुर हैं मेरे पर गीत तेरे हैं
सुर हैं मेरे पर गीत तेरे हैं
भगवन आप ही मीत मेरे हैं।

वाणी ये मेरी गुन तेरे ही गाये सदा
इक इक सांस पे तेरे प्रेम का कर्ज लदा।
ओ प्रभु प्यारे तुम ही मीत हमारे
सुर हैं मेरे – – – – – – –

तेरा ये आशीष दाता काफ़ी है मेरे लिए
सदा जीऊं मैं प्रभु सब के भले के लिए
ओ प्रभु प्यारे तुम ही मीत हमारे
सुर हैं मेरे – – – – – – –

सुबह शाम गाऊँ मैं तेरी ही महिमा
कैसै जताऊं नाथ मैं तेरी गरिमा
ओ प्रभु प्यारे तुम ही मीत हमारे
सुर हैं मेरे – – – – – – –

—-रंजना माथुर दिनांक 04/07/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
©

Author
Ranjana Mathur
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र... Read more
Recommended Posts
भजन
प्रभु इक कृपा की बात है मेरे जन्मों का हिसाब है तुम्हें सब पता है मेरे प्रभु तेरे सामने मेरा हाल है तेरी इक कृपा... Read more
मेरे गीत
मेरे गीत मेरे गीत तुम्हारे पास स्वर मांगने आयेंगे । कंठ पर तुम्हारे ये गीत खेलेंगे और लहरायेंगे। माना मेरे गीतों में सुर है ना... Read more
मेरे प्रभु
प्रभु हो प्रभु तुम, मेरे प्रभु हो। करुणा के सागर, दयालु बड़े हो। जहाँ भी मैं जाऊँ, तेरा दर्श पाऊँ। मुड़ के जो देखूँ, तुझे... Read more
मुक्तक
दुनिया में मेरा ना तुझसा कोई मीत है। मेरी तो लागी तुझ संग ही प्रीत है। तुमसा सर्वशक्तिमान नही कोई मेरे प्रभु! मेरी कलम भी... Read more