तुझे अपने घर पे बुलाने से पहले

तुझे अपने घर पे बुलाने से पहले
सजा लूँ ये कमरा दिखाने से पहले

यहाँ अहतियातन जुरुरी बहुत है
परख लूँ मैं रिश्ता निभाने से पहले

वो फीका तबस्सुम वो अलसाई आँखें
वो रोया बहुत ख़त जलाने से पहले

अधिकतर महकमों में होता यही है
खिलाना ही पड़ता है खाने से पहले

नज़ीर नज़र

4 Views
You may also like: